आध्यात्म



यह एक ऐसा विषय है ,
 जिसे कहीं  जानबूझकर कर तो कहीं  अनजाने में छोड़ दिया गया अथवा कठिन बना दिया गया | आध्यात्मिकता ,पूजा – पाठ ,तंत्र –मंत्र ,ऊर्जा ये क्या हैं ? किन कारणों से ? संस्कृत के कठिन मंत्रो से लेकर साधू  बाबा के विचित्र पहनावे तक आध्यात्म को एक विचित्र रूप रंग देते है |  इन्हें हम सरल से सरल शब्दों में समझने का प्रयत्न करेंगें |  साथ ही .......
 ये ईज़ी परमात्मा है क्या ? इसका उद्देश्य क्या है ? इसको सीखने समझने से आपको क्या लाभ है ?
ईज़ी परमात्मा का उद्देश्य आसान से भी आसान रास्ते से ईश्वर की तरफ चलाना और उन्हें प्राप्त करना है | ईज़ी परमात्मा ईश्वर को समझने का प्रयत्न करना है | उनकी शक्तियों को समझना और ईश्वरीय शक्तियों को हम अपने उन्नति और अपने उद्देश्यों के लिए कैसे प्रयोग कर सकते है ,यह समझाना है ,अथवा जानना है | इस ब्लॉग के माध्यम से वेद पुराणों से लेकर अब तक के सभी पूजा पद्धति के बारे में आसान तरीको से बताया जायेगा | आप ईश्वर को इसी जीवन में कैसे प्राप्त कर सकते है ?उन्हें कैसे अपने समीप महसूस कर सकते  है ?उनसे कैसे बात कर सकते है ? यह भी आपको बताया जायेगा |
सरल से कठिन के तरफ चलेंगे और अंततः कठिन को भी सरल बना देंगे |
यहॉ हम क्रमानुसार ईश्वर व उनकी शक्तियों अथवा ऊर्जा  को समझेंगें -----
·       ऊर्जा व ऊर्जा के प्रकार
·       ऊर्जा क प्रयोग
·       आत्मिक ऊर्जा को बढ़ाने के लिए दुसरे व्यक्ति की आवश्यकता है अथवा नहीं |
·       क्या  प्रार्थना वाकई सुनी जाती है?
·       क्या ईश्वर से मिला जा सकता है? क्या उन्हें देखा जा सकता है ?
·       आपकी सोई हुई शक्तियां |
·       भावनाओं का अपने उद्देश्य प्राप्ति के लिए प्रयोग |
·       देवी देवताओं को परम शक्तियां |
·       अपने इष्टदेव से बातें करें, उनसे  मिलें  |

इनमे से कई जानकारी आपको रोचक भी लगेंगी ,तो कई जानी पहचानी भी लगेंगी |इसकी वजह ये है की कई जानकारियों को यहाँ  इक्कठा किया गया है ,और कई जानकारी ईश्वरीय शक्तियों ने स्वयं इस माध्यम से यहाँ  पहुंचायी  है |आश्चर्य ना करे एक बार जब आप स्वयं  ईश्वरीय शक्तियों के माध्यम बन जायेंगे आप स्वयं ईश्वरीय सत्ता के बातें करने लगेंगे | 

Comments

Popular posts from this blog

साँसे और आध्यात्मिकता ( Management of breathing and spirituality) पार्ट - 1

कान्वेंट स्कूल के फंदे

After Knowing This , You will Never Walk Alone